Aankhon Mein Roop Subah Ki Pahli Kiran Sa Hai – Ada Jafri Ghazal

Ada Jafri Ghazal : Aankhon Mein Roop Subah Ki Pahli Kiran Sa Hai

Aankhon mein roop subah ki pahli kiran sa hai
ahwaal jii ka zulf-e-shikan-dar-shikan sa hai.!

Kuchh yaadgar apni magar chhod kar gayin
jaati rutton ka haal dilon ki lagan sa hai.!

Aankhen baras gayin toh nikhaar aur aa gaya
yaadon ka rang bhi toh gul-o-yaasman sa hai.!

Kis mod par hain aaj hum aey rahguzar-e-naaz
ab dard ka mizaaj kisi hum-sukhan sa hai.!

Hai ab bhi rang rang-e-tamanna ka pairahan
khwaabon ke saath ab bhi wahi husn-e-zan sa hai.!

Kin manzilon lute hain mohabbat ke qaafile
insaan zameen pe aaj ghareeb-ul-watan sa hai.!

Woh jis ka saath chhod chuka naaz-e-aagahi
ab bhi talaash-e-raah mein wahi raahzan sa hai.!

Shaakhon ka rang-roop khizan le gayi magar
andaaz aaj bhi wahi arbaab-e-fan sa hai.!

Khushboo ke thaamne ko badhaaye hain haath ‘ada’
daaman-e-aarzu bhi saba-pairahan sa hai.!!

Ada Jafri

अदा जाफ़री ग़ज़ल : आँखों में रूप सुब्ह की पहली किरन सा है

आँखों में रूप सुब्ह की पहली किरन सा है
अहवाल जी का ज़ुल्फ़-ए-शिकन-दर-शिकन सा है ।

कुछ यादगार अपनी मगर छोड़ कर गईं
जाती रुतों का हाल दिलों की लगन सा है ।

आँखें बरस गईं तो निखार और आ गया
यादों का रंग भी तो गुल-ओ-यासमन सा है ।

किस मोड़ पर हैं आज हम ऐ रहगुज़ार-ए-नाज़
अब दर्द का मिज़ाज किसी हम-सुख़न सा है ।

है अब भी रंग रंग-ए-तमन्ना का पैरहन
ख़्वाबों के साथ अब भी वही हुस्न-ए-ज़न सा है ।

किन मंज़िलों लुटे हैं मोहब्बत के क़ाफ़िले
इंसाँ ज़मीं पे आज ग़रीब-उल-वतन सा है ।

वो जिस का साथ छोड़ चुका नाज़-ए-आगही
अब भी तलाश-ए-रह में वही राहज़न सा है ।

शाख़ों का रंग-रूप ख़िज़ाँ ले गई मगर
अंदाज़ आज भी वही अर्बाब-ए-फ़न सा है ।

ख़ुशबू के थामने को बढ़ाए हैं हाथ ‘अदा’
दामान-ए-आरज़ू भी सबा-पैरहन सा है ।।

अदा जाफरी

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment