Aanis Moeen Poetry/ Shayari /Ghazals | आनिस मुईन की शायरी

Aanis Moeen     Aanis Moeen Poetry/ Ghazals Collection 

 

 

 

 


 
Aanis Moin (Moeen) was urdu poet from Multan, (Pakistan) who hanged himself at early age of 27 years.

Read all his Poetry collection on Gulzariyat.com

 


SN:

Aanis Moeen Ghazals:

01.

Bahar Bhi Ab Andar Jaisa Sannata Hai – Aanis Moeen

02.

Ho jaayegi jab tum se shanasaai zara aur – Aanis Moeen

03.

Jeevan Ko Dukh, Dukh Ko Aag Aur Aag Ko Paani Kehte – Aanis Moeen

04.

Kitne Hi Ped Khauf-e-khizan Se Ujad Gaye

05.

Woh Kuchh Gehri Soch Mein Aise Doob Gaya Hai – Aanis Moeen

06.

Woh Mere Haal Pe Roya Bhi Muskuraya Bhi – Aanis Moeen

07.

Ye Aur Baat Ki Rang-e Bahar Kam Hoga – Aanis Moeen

08.

Ye Qarz Toh Mera Hai Chukayega Koi Aur – Aanis Moeen

09.

Milan Ki Saat Ko Is Tarah Se Amar Kiya Hai – Aanis Moeen

आनिस मुईन की शायरी संग्रह हिंदी में 

 

आनिस मोईन एक जाने माने शायर थे पाकिस्तान के मुल्तान से.

गुलज़ारियत डॉट कॉम पे आप आनिस मुईन साहब की सभी शायरी / ग़ज़ल को हिंदी में पढ़ सकते हैं.


SN:

आनिस मुईन की ग़ज़लें:

०१.

बाहर भी अब अंदर जैसा सन्नाटा है / आनिस मुईन

 ०२

हो जाएगी जब तुम से शनासाई ज़रा और / आनिस मुईन

 ०३.

जीवन को दुख दुख को आग और आग को पानी कहते / आनिस मुईन

०४.

कितने ही पेड़ ख़ौफ़-ए-ख़िज़ाँ से उजड़ गए / आनिस मुईन

०५ .

वो कुछ गहरी सोच में ऐसे डूब गया है / आनिस मुईन

०६ .

वो मेरे हाल पे रोया भी मुस्कुराया भी / आनिस मुईन

०७.

ये और बात कि रंग ए बहार कम होगा / आनिस मुईन

०८ .

ये क़र्ज़ तो मेरा है चुकाएगा कोई और / आनिस मुईन

०९.

मिलन की साअत को इस तरह से अमर किया है / आनिस मुईन

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment