Home / Urdu Ghazal / Aakhir Us Ke Husn Ki Mushkil Ko Hal Maine Kiya – Farhat Ehsas Ghazal

Aakhir Us Ke Husn Ki Mushkil Ko Hal Maine Kiya – Farhat Ehsas Ghazal

4.7
07
Aakhir Us Ke Husn Ki Mushkil Ko Hal Main Ne Kiya

Aakhir us ke husn ki mushkil ko hal maine kiya
ek nasri nazm thi jis ko ghazal maine kiya .!

Kya balaagat aa gayi us ke badan ke matn mein
chand lafzon ka jo kuchh radd-o-badal maine kiya .!

Baais-e-tauheen hai dil ke liye takraar-e-jism
aaj phir kaise karun woh sab jo kal maine kiya .!

Bazm ho bazaar ho saari nigaahen mujh pe hain
kya un aankhon ke ishaaron par amal maine kiya .!

Jis jagah marna tha mujh ko main wahan jeeta raha
ishq mein har kaam be-mauqa-mahal maine kiya .!!

Farhat Ehsas

आख़िर उस के हुस्न की मुश्किल को हल मैं ने किया : फरहत एहसास ग़ज़ल

आख़िर उस के हुस्न की मुश्किल को हल मैंने किया
एक नसरी नज़्म थी जिस को ग़ज़ल मैंने किया ।

क्या बलाग़त आ गई उस के बदन के मत्न में
चंद लफ़्ज़ों का जो कुछ रद्द-ओ-बदल मैंने किया ।

बाइ’स-ए-तौहीन है दिल के लिए तकरार-ए-जिस्म
आज फिर कैसे करूँ वो सब जो कल मैंने किया ।

बज़्म हो बाज़ार हो सारी निगाहें मुझ पे हैं
क्या उन आँखों के इशारों पर अमल मैंने किया ।

जिस जगह मरना था मुझ को मैं वहाँ जीता रहा
इश्क़ में हर काम बे-मौक़ा-महल मैंने किया ।।

फरहत एहसास

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Reply