Aaj Tak Us Ki Mohabbat Ka Nasha Taari Hai – Shahzad Ahmad Ghazal

Shahzad Ahmad Ghazal : Aaj Tak Uski Mohabbat Ka Nasha Tari Hai

Aaj tak us ki mohabbat ka nasha taari hai
phool baaqi nahin khushbu ka safar jaari hai .!

Sehr lagta hai paseene mein nahaya hua jism
ye ajab neend mein doobi hui bedaari hai .!

Aaj ka phool teri kokh se zaahir hoga
shaakh-e-dil khushk na ho ab ke teri baari hai .!

Dhyan bhi us ka hai milte bhi nahin hain us se
jism se bair hai saaye se wafa-dari hai .!

Dil ko tanhaai ka ehsaas bhi baaqi na raha
woh bhi dhundla gayi jo shakl bahut pyaari hai .!

Is tag-o-taaz mein toote hain sitaare kitne
aasmaan jeet saka hai na zameen haari hai .!

Koi aaya hai zara aankh toh kholo ‘shahzad’
abhi jaage the abhi sone ki tayyaari hai .!!

Shahzad Ahmad

शहजाद अहमद : आज तक उस की मोहब्बत का नशा तारी है

आज तक उस की मोहब्बत का नशा तारी है
फूल बाक़ी नहीं ख़ुश्बू का सफ़र जारी है ।

सेहर लगता है पसीने में नहाया हुआ जिस्म
ये अजब नींद में डूबी हुई बेदारी है ।

आज का फूल तेरी कोख से ज़ाहिर होगा
शाख़-ए-दिल ख़ुश्क न हो अब के तेरी बारी है ।

ध्यान भी उस का है मिलते भी नहीं हैं उस से
जिस्म से बैर है साए से वफ़ा-दारी है ।

दिल को तन्हाई का एहसास भी बाक़ी न रहा
वो भी धुँदला गई जो शक्ल बहुत प्यारी है ।

इस तग-ओ-ताज़ में टूटे हैं सितारे कितने
आसमाँ जीत सका है न ज़मीं हारी है ।

कोई आया है ज़रा आँख तो खोलो ‘शहज़ाद’
अभी जागे थे अभी सोने की तय्यारी है ।।

शहजाद अहमद

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment