Aaj Bhi Tishnagi Ki Qismat Mein – Jaun Eliya Ghazal

Jaun Eliya Ghazal : Aaj Bhi Tishnagi Ki Qismat Mein

jaun eliya

Aaj bhi tishnagi ki qismat mein
sam-e-qaatil hai salsabeel nahin .!

Sab khuda ke vakeel hain lekin
aadmi ka koi vakeel nahin .!

Hai kushaada azal se ru-e-zameen
haram-o-dair be-fasil nahin .!

Zindagi apne rog se hai tabaah
aur darmaan ki kuchh sabeel nahin .!

Tum bahut jaazib-o-jameel sahi
zindagi jaazib-o-jameel nahin .!

Na karo bahas haar jaaogi
husn itni badi daleel nahin .!!

Jaun Eliya

जॉन एलिया ग़ज़ल : आज भी तिश्नगी की क़िस्मत में

jaun eliya

आज भी तिश्नगी की क़िस्मत में
सम-ए-क़ातिल है सलसबील नहीं ।

सब ख़ुदा के वकील हैं लेकिन
आदमी का कोई वकील नहीं ।

है कुशादा अज़ल से रू-ए-ज़मीं
हरम-ओ-दैर बे-फ़सील नहीं ।

ज़िंदगी अपने रोग से है तबाह
और दरमाँ की कुछ सबील नहीं ।

तुम बहुत जाज़िब-ओ-जमील सही
ज़िंदगी जाज़िब-ओ-जमील नहीं ।

न करो बहस हार जाओगी
हुस्न इतनी बड़ी दलील नहीं ।।

जॉन एलिया

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment