Aag Paani Se Darta Hua Main Hi Tha – Mohammad Alvi Ghazal


Mohammad Alvi – Aag Paani Se Darta Hua Main Hi Tha

Aag paani se darta hua main hi tha
chaand ki sair karta hua main hi tha.!

Sar uthaye khada tha pahadon pe main
patti patti bikharta hua main hi tha.!

Main hi tha us taraf zakhm khaya hua
is taraf waar karta hua main hi tha.!

Jaag uttha tha subah maut ki neend se
raat aayi toh marta hua main hi tha.!

Main hi tha manzilon pe pada haanphta
raaston mein thaharta hua main hi tha.!

Mujh se poochhe koi doobne ka maza
paaniyon mein utarta hua main hi tha.!

Main hi tha ‘alvi’ kamre mein soya hua
aur gali se guzarta hua main hi tha.!!

Mohammad Alvi

मोहम्मद अल्वी ग़ज़ल : आग पानी से डरता हुआ मैं ही था

आग पानी से डरता हुआ मैं ही था
चाँद की सैर करता हुआ मैं ही था ।

सर उठाए खड़ा था पहाड़ों पे मैं
पत्ती पत्ती बिखरता हुआ मैं ही था ।

मैं ही था उस तरफ़ ज़ख़्म खाया हुआ
इस तरफ़ वार करता हुआ मैं ही था ।

जाग उट्ठा था सुब्ह मौत की नींद से
रात आई तो मरता हुआ मैं ही था ।

मैं ही था मंज़िलों पे पड़ा हाँफता
रास्तों में ठहरता हुआ मैं ही था ।

मुझ से पूछे कोई डूबने का मज़ा
पानियों में उतरता हुआ मैं ही था ।

मैं ही था ‘अल्वी’ कमरे में सोया हुआ
और गली से गुज़रता हुआ मैं ही था ।

मोहम्मद अल्वी

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment