Aadhon Ki Taraf Se Kabhi Paunon Ki Taraf Se – Adil Mansuri Ghazal

Adil Mansuri Ghazal : Aadhon Ki Taraf Se Kabhi Paunon Ki Taraf Se

Aadhon ki taraf se kabhi paunon ki taraf se
aawaaze kase jaate hain baunon ki taraf se.!

Hairat se sabhi khaak-zada dekh rahe hain
har roz zameen ghatti hai konon ki taraf se.!

Aakhon mein liye phirte hain is dar-badari mein
kuchh toote hue khwaab khilaunon ki taraf se.!

phir koi asaa de ki woh phunkaarte nikle
phir azhdahe firaun ke tonon ki taraf se.!

Tu wehm-o-guman se bhi pare deta hai sab ko
ho jaata hai pal bhar mein na honon ki taraf se.!

Baaton ka koi silsila jaari ho kisi taur
khamoshi hi khamoshi hai donon ki taraf se.!

Phir baad mein darwaza dikha dete hain ‘adil’
pahle woh uthaate hain bichhaunon ki taraf se.!!

Adil Mansuri

आदिल मंसूरी ग़ज़ल : आधों की तरफ से कभी पौनों की तरफ से

आधों की तरफ से कभी पौनों की तरफ से
आवाज़े कसे जाते हैं बौनों की तरफ से ।

हैरत से सभी खाक – ज़दा देख रहे हैं
हर रोज ज़मीन घटती है कोनों की तरफ से ।

आँखों में लिए फिरते हैं इस दर-बदरी में
कुछ टूटे हुए ख्वाब खिलौनों की तरफ से ।

फिर कोई असा दे कि वो फुंकारते निकले
फिर अज़दहे फ़िरऔन के टोनों की तरफ से ।

तू वहम-ओ-गुमाँ से भी परे देता है सब को
हो जाता है पल भर में न होनों की तरफ से ।

बातों का कोई सिलसिला जारी हो किसी तौर
ख़ामोशी ही ख़ामोशी है दोनों की तरफ से ।

फिर बाद में दरवाज़ा दिखा देते हैं ‘आदिल’
पहले वो उठाते हैं बिछौनों की तरफ से ।।

आदिल मंसूरी 

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment