Home Blog

Ab Bhi Parde Hain Wahi Parda-dari To Dekho – Mazhar Imam Ghazal

0
Ab Bhi Parde Hain Wahi Parda-dari To Dekho – Mazhar Imam Ghazal
4.4 (88.57%) 7 vote[s]

Ab Bhi Parde Hain Wahi Parda-dari Toh Dekho

Ab bhi parde hain wahi parda-dari toh dekho
aql ka daava-e-baaligh-nazari toh dekho .!

Sar patakte hain ki deevaar-e-khumistan dhaa den
hazrat-e-shaikh ki aashufta-sari toh dekho .!

Aaj har zakhm ke munh mein hai zabaan-e-fariyaad
mere iisa ki zara charagari toh dekho .!

Qaid-e-nazzara se jalwaon ko nikalne na diya
doston ki ye vasiay-un-nazari toh dekho .!

Un se pahle hi chale aaye janaab-e-naaseh
mere naalon ki zara zood-asari toh dekho .!

Hai taghaful ki tavajjoh nahin khulne paata
husn-e-maaasoom ki bedaad-gari toh dekho .!

Mujh se hi poochh raha hai meri manzil ka pata
mere rahbar ki zara raah-bari toh dekho .!

Un ko de aaye hain khud apni mohabbat ke khutoot
ghum-gusaaron ki zara naama-bari toh dekho .!

Donon hi raah mein takraate chale jaate hain
ishq aur aql ki ye hum-safri toh dekho .!

Jaavedan qurb ke lamhaat hue hain ‘mazhar’
taair-e-waqt ki be-baal-o-pari toh dekho .!!

Mazhar Imam

अब भी पर्दे हैं वही पर्दा-दरी तो देखो : मज़हर इमाम ग़ज़ल

अब भी पर्दे हैं वही पर्दा-दरी तो देखो
अक़्ल का दावा-ए-बालिग़-नज़री तो देखो ।

सर पटकते हैं कि दीवार-ए-ख़ुमिस्ताँ ढा दें
हज़रत-ए-शैख़ की आशुफ़्ता-सरी तो देखो ।

आज हर ज़ख़्म के मुँह में है ज़बान-ए-फ़रियाद
मेरे ईसा की ज़रा चारागरी तो देखो ।

क़ैद-ए-नज़्ज़ारा से जल्वों को निकलने न दिया
दोस्तों की ये वसीअ-उन-नज़री तो देखो ।

उन से पहले ही चले आए जनाब-ए-नासेह
मेरे नालों की ज़रा ज़ूद-असरी तो देखो ।

है तग़ाफ़ुल कि तवज्जोह नहीं खुलने पाता
हुस्न-ए-मासूम की बेदाद-गरी तो देखो ।

मुझ से ही पूछ रहा है मिरी मंज़िल का पता
मेरे रहबर की ज़रा राह-बरी तो देखो ।

उन को दे आए हैं ख़ुद अपनी मोहब्बत के ख़ुतूत
ग़म-गुसारों की ज़रा नामा-बरी तो देखो ।

दोनों ही राह में टकराते चले जाते हैं
इश्क़ और अक़्ल की ये हम-सफ़री तो देखो ।

जावेदाँ क़ुर्ब के लम्हात हुए हैं ‘मज़हर
ताइर-ए-वक़्त की बे-बाल-ओ-परी तो देखो ।।

मज़हर इमाम

Aakhir Us Ke Husn Ki Mushkil Ko Hal Maine Kiya – Farhat Ehsas Ghazal

0
Aakhir Us Ke Husn Ki Mushkil Ko Hal Maine Kiya – Farhat Ehsas Ghazal
4.7 (94.29%) 7 vote[s]

Aakhir Us Ke Husn Ki Mushkil Ko Hal Main Ne Kiya

Aakhir us ke husn ki mushkil ko hal maine kiya
ek nasri nazm thi jis ko ghazal maine kiya .!

Kya balaagat aa gayi us ke badan ke matn mein
chand lafzon ka jo kuchh radd-o-badal maine kiya .!

Baais-e-tauheen hai dil ke liye takraar-e-jism
aaj phir kaise karun woh sab jo kal maine kiya .!

Bazm ho bazaar ho saari nigaahen mujh pe hain
kya un aankhon ke ishaaron par amal maine kiya .!

Jis jagah marna tha mujh ko main wahan jeeta raha
ishq mein har kaam be-mauqa-mahal maine kiya .!!

Farhat Ehsas

आख़िर उस के हुस्न की मुश्किल को हल मैं ने किया : फरहत एहसास ग़ज़ल

आख़िर उस के हुस्न की मुश्किल को हल मैंने किया
एक नसरी नज़्म थी जिस को ग़ज़ल मैंने किया ।

क्या बलाग़त आ गई उस के बदन के मत्न में
चंद लफ़्ज़ों का जो कुछ रद्द-ओ-बदल मैंने किया ।

बाइ’स-ए-तौहीन है दिल के लिए तकरार-ए-जिस्म
आज फिर कैसे करूँ वो सब जो कल मैंने किया ।

बज़्म हो बाज़ार हो सारी निगाहें मुझ पे हैं
क्या उन आँखों के इशारों पर अमल मैंने किया ।

जिस जगह मरना था मुझ को मैं वहाँ जीता रहा
इश्क़ में हर काम बे-मौक़ा-महल मैंने किया ।।

फरहत एहसास

Aisa Jeena Bhi Kya Hai Mar Mar Ke – Pooja Bhatia Ghazal

0
Aisa Jeena Bhi Kya Hai Mar Mar Ke – Pooja Bhatia Ghazal
4.5 (90%) 6 vote[s]

Aisa Jina Bhi Kya Hai Mar Mar Ke

Aisa jeena bhi kya hai mar mar ke
woh jahan bhi rahe rahe dar ke .!

Ab kisi tarah dil nahin lagta
ghar mein sab kuchh toh hai siwa ghar ke .!

Saans ka bojh ab nahin uthta
jism khaali hai dhad bina sar ke .!

Us ko jaane ki kitni jaldi thi
baat saari kahi par kam kar ke .!

Jalwa dekha lahoo ka us ne jab
hosh hi ud gaye the khanjar ke .!

Ret-o-saahil mein sulh phir na hui
thak gayi mauj iltija kar ke .!

Zakhm kuchh is tarah se hanste hain
ashq bahne lage hain nashtar ke .!

Raas aaya ghum-e-shanasai
waar pahchaan ke the khanjar ke .!

Us ko naaraz hona aata hai ?
waari jaaun main aise tevar ke .!!

Pooja Bhatia

ऐसा जीना भी क्या है मर मर के : पूजा भाटिया ग़ज़ल

ऐसा जीना भी क्या है मर मर के
वो जहाँ भी रहे रहे डर के ।

अब किसी तरह दिल नहीं लगता
घर में सब कुछ तो है सिवा घर के ।

साँस का बोझ अब नहीं उठता
जिस्म ख़ाली है धड़ बिना सर के ।

उस को जाने की कितनी जल्दी थी
बात सारी कही प कम कर के ।

जल्वा देखा लहू का उस ने जब
होश ही उड़ गए थे ख़ंजर के ।

रेत-ओ-साहिल में सुल्ह फिर न हुई
थक गई मौज इल्तिजा कर के ।

ज़ख़्म कुछ इस तरह से हँसते हैं
अश्क बहने लगे हैं नश्तर के ।

रास आया ग़म-ए-शनासाई
वार पहचान के थे ख़ंजर के ।

उस को नाराज़ होना आता है ?
वारी जाऊँ मैं ऐसे तेवर के ।।

पूजा भाटिया

Din Dhal Chuka Tha Aur Parinda Safar Mein Tha – Wazir Agha Ghazal

0
Din Dhal Chuka Tha Aur Parinda Safar Mein Tha – Wazir Agha Ghazal
4.6 (91.43%) 7 vote[s]

Din Dhal Chuka Tha Aur Parinda Safar Mein Tha

Din dhal chuka tha aur parinda safar mein tha
saara lahoo badan ka rawan musht-e-par mein tha .!

Jaate kahan ki raat ki baanhen thi mushtail
chhupte kahan ki saara jahan apne ghar mein tha .!

Had-e-ufooq pe shaam thi kheme mein muntazir
aansoo ka ek pahaad sa haail nazar mein tha .!

Lo woh bhi khushk ret ke teele mein dhal gaya
kal tak jo ek koh-e-giran rahguzar mein tha .!

Utra tha wahshi chidiyon ka lashkar zameen par
phir ek bhi sabz paat na saare nagar mein tha .!

Paagal si ek sada kisi ujde makaan mein thi
khidki mein ek charaagh bhari-dopahar mein tha .!

Us ka badan tha khauf ki hiddat se shoala-vash
sooraj ka ek gulaab sa tasht-e-sahar mein tha .!!

Wazir Agha

दिन ढल चुका था और परिंदा सफ़र में था – वज़ीर आग़ा ग़ज़ल

दिन ढल चुका था और परिंदा सफ़र में था
सारा लहू बदन का रवाँ मुश्त-ए-पर में था ।

जाते कहाँ कि रात की बाँहें थीं मुश्तइ’ल
छुपते कहाँ कि सारा जहाँ अपने घर में था ।

हद-ए-उफ़ुक़ पे शाम थी ख़ेमे में मुंतज़िर
आँसू का एक पहाड़ सा हाइल नज़र में था ।

लो वो भी ख़ुश्क रेत के टीले में ढल गया
कल तक जो एक कोह-ए-गिराँ रहगुज़र में था ।

उतरा था वहशी चिड़ियों का लश्कर ज़मीन पर
फिर एक भी सब्ज़ पात न सारे नगर में था ।

पागल सी इक सदा किसी उजड़े मकाँ में थी
खिड़की में एक चराग़ भरी-दोपहर में था ।

उस का बदन था ख़ौफ़ की हिद्दत से शो’ला-वश
सूरज का एक गुलाब सा तश्त-ए-सहर में था ।।

वज़ीर आग़ा

Dhoop Ke Saath Gaya Saath Nibhane Wala – Wazir Agha Ghazal

0
Dhoop Ke Saath Gaya Saath Nibhane Wala – Wazir Agha Ghazal
4.6 (91.43%) 7 vote[s]

Dhoop Ke Sath Gaya Saath Nibhaane Waala – Wazir Agha 

Dhoop ke saath gaya saath nibhane waala
ab kahan aayega woh laut ke aane waala .!

Ret par chhod gaya naqsh hazaaron apne
kisi paagal ki tarah naqsh mitaane waala .!

Sabz shaakhen kabhi aise toh nahin cheekhti hain
kaun aaya hai parindon ko daraane waala .!

Aariz-e-shaam ki soorkhi ne kiya faash usey
parda-e-abr mein tha aag lagaane waala .!

Safar-e-shab ka taqaza hai mere saath raho
dasht pur-haul hai toofaan hai aane waala .!

Mujh ko dar-parda sunaata raha qissa apna
agle waqton ki hikaayat sunaane waala .!

Shabnami ghaas ghane phool larazti kirnen
kaun aaya hai khazaanon ko lutaane waala .!

Ab toh aaraam karen sochti aankhen meri
raat ka aakhiri taara bhi hai jaane waala .!!

Wazir Agha

धूप के साथ गया साथ निभाने वाला – वज़ीर आग़ा ग़ज़ल

धूप के साथ गया साथ निभाने वाला
अब कहाँ आएगा वो लौट के आने वाला ।

रेत पर छोड़ गया नक़्श हज़ारों अपने
किसी पागल की तरह नक़्श मिटाने वाला ।

सब्ज़ शाख़ें कभी ऐसे तो नहीं चीख़ती हैं
कौन आया है परिंदों को डराने वाला ।

आरिज़-ए-शाम की सुर्ख़ी ने किया फ़ाश उसे
पर्दा-ए-अब्र में था आग लगाने वाला ।

सफ़र-ए-शब का तक़ाज़ा है मिरे साथ रहो
दश्त पुर-हौल है तूफ़ान है आने वाला ।

मुझ को दर-पर्दा सुनाता रहा क़िस्सा अपना
अगले वक़्तों की हिकायात सुनाने वाला ।

शबनमी घास घने फूल लरज़ती किरनें
कौन आया है ख़ज़ानों को लुटाने वाला ।

अब तो आराम करें सोचती आँखें मेरी
रात का आख़िरी तारा भी है जाने वाला ।।

वज़ीर आग़ा

Baadal Baras Ke Khul Gaya Rut Meharban Hui : Wazir Agha Ghazal

0
Baadal Baras Ke Khul Gaya Rut Meharban Hui : Wazir Agha Ghazal
4.4 (87.5%) 8 vote[s]

Badal Baras Ke Khul Gaya Rut Mehrban Hui : Wazir Agha

Baadal baras ke khul gaya rut mehrbaan hui
budhi zameen ne tan ke kaha main jawaan hui .!

Makdi ne pahle jaal buna mere gird phir
monis bana rafeeq bani paasbaan hui .!

Shab ki rikaab thaam ke khushbu hui juda
din chadhte chadhte bisri hui daastaan hui .!

Karte ho ab talaash sitaaron ko khaak par
jaise zameen zameen na hui aasmaan hui .!

Is baar aisa qaht pada chhaanv ka ki dhoop
har sookhte shajar ke liye saayebaan hui .!

Geeli hawa ke lams mein kuchh tha wagarna kab
kaliyon ki baas galiyon ke andar rawaan hui .!

Aana hai gar toh aao ki chalne lagi hawa
kashti samundaron mein khula baadbaan hui .!!

Wazir Agha

बादल बरस के खुल गया रुत मेहरबाँ हुई : वज़ीर आग़ा ग़ज़ल

बादल बरस के खुल गया रुत मेहरबाँ हुई
बूढ़ी ज़मीं ने तन के कहा मैं जवाँ हुई ।

मकड़ी ने पहले जाल बुना मेरे गिर्द फिर
मोनिस बनी रफ़ीक़ बनी पासबाँ हुई ।

शब की रिकाब थाम के ख़ुश्बू हुई जुदा
दिन चढ़ते चढ़ते बिसरी हुई दास्ताँ हुई ।

करते हो अब तलाश सितारों को ख़ाक पर
जैसे ज़मीं ज़मीं न हुई आसमाँ हुई ।

इस बार ऐसा क़हत पड़ा छाँव का कि धूप
हर सूखते शजर के लिए साएबाँ हुई ।

गीली हवा के लम्स में कुछ था वगरना कब
कलियों की बास गलियों के अंदर रवाँ हुई ।

आना है गर तो आओ कि चलने लगी हवा
कश्ती समुंदरों में खुला बादबाँ हुई ।।

वज़ीर आग़ा

Bundon Ki Tarah Chhat Se Tapakte Hue Aa Jao – Javed Saba Ghazal

0
Bundon Ki Tarah Chhat Se Tapakte Hue Aa Jao – Javed Saba Ghazal
4.5 (90%) 4 vote[s]

Boondon Ki Tarah Chhat Se Tapakte Hue Aa Jaao

Boondon ki tarah chhat se tapakte hue aa jaao
barsaat ka mausam hai baraste hue aa jaao .!

Khushbu ho toh jhonke ki tarah phool se niklo
dil ho toh meri jaan dhadakte hue aa jaao .!

Do gaam pe mai-khana hai daftar se nikal kar
is bheegte mausam mein tahalte hue aa jaao .!

Mausam ke bahaane gul-o-gulzar nikal aaye
tum bhi koi bahroop badalte hue aa jaao .!!

Javed Saba

बूंदों की तरह छत से टपकते हुए आ जाओ : जावेद सबा ग़ज़ल

बूंदों की तरह छत से टपकते हुए आ जाओ
बरसात का मौसम है बरसते हुए आ जाओ ।

खुशबु हो तो झोंके की तरह फूल से निकलो
दिल हो तो मेरी जान धड़कते हुए आ जाओ ।

दो गाम पे मय-ख़ाना है दफ़्तर से निकल कर
इस भीगते मौसम में टहलते हुए आ जाओ ।

मौसम के बहाने गुल-ओ-गुलज़ार निकल आए
तुम भी कोई बहरूप बदलते हुए आ जाओ ।।

जावेद सबा

Na Jadu Hun Na Tona Ho Gaya Hun – Sajid Hashmi Ghazal

0
Na Jadu Hun Na Tona Ho Gaya Hun – Sajid Hashmi Ghazal
4.5 (90%) 4 vote[s]

Sajid Hashmi Ghazal : Na Jaadu Hoon Na Tona Ho Gaya Hoon

Na jaadu hoon na tona ho gaya hoon
mujhe hona tha hona ho gaya hoon .!

Unhen paras na kah dun toh kahun kya
jinhen chhoo kar main sona ho gaya hoon !

Badha hai jab se qad khwahish ka meri
laga hai aur bauna ho gaya hoon .!

Woh mere dil se aksar khelte hain
zahe-qismat khilauna ho gaya hoon .!

Woh chal chal kar tamanna raundte hain
main bichh bichh kar bichhauna ho gaya hoon .!

Kabhi kaata gaya haalat ke dhar
kabhi main adhbilauna ho gaya hoon .!

Meri ghazlen hi toh saathi hain ‘sajid’
wagarna ek kona ho gaya hoon .!!

Sajid Hashmi

न जादू हूँ न टोना हो गया हूँ – साजिद हाश्मी ग़ज़ल

न जादू हूँ न टोना हो गया हूँ
मुझे होना था होना हो गया हूँ ।

उन्हें पारस न कह दूँ तो कहूँ क्या
जिन्हें छू कर मैं सोना हो गया हूँ ।

बढ़ा है जब से क़द ख़्वाहिश का मेरी
लगा है और बौना हो गया हूँ ।

वो मेरे दिल से अक्सर खेलते हैं
ज़हे-क़िस्मत खिलौना हो गया हूँ ।

वो चल चल कर तमन्ना रौंदते हैं
मैं बिछ बिछ कर बिछौना हो गया हूँ

कभी काता गया हालात के धर
कभी मैं अधबिलोना हो गया हूँ ।।

साजिद हाश्मी

Tare Sare Raqs Karenge Chand Zameen Par Utrega – Sajid Hashmi Ghazal

0
Tare Sare Raqs Karenge Chand Zameen Par Utrega – Sajid Hashmi Ghazal
4.5 (90%) 4 vote[s]

Sajid Hashmi Ghazal : Taare Sare Raqs Karenge Chaand Zameen Par Utrega

Taare saare raqs karenge chaand zameen par utrega
aks mere mahboob ka jab bhi jal ke andar utrega .!

Un nainon mein sab kuchh khoya dil dooba aur hosh gaye
jin nainon ki gahraai mein ek samundar utrega .!

Shahar-e-dil ke har raste par deep jalaaye baitha hoon
un ki yaadon ka ye lashkar mere ghar par utrega .!

Woh aaye toh saara aangan saara gulshan mahkega
un ka jalwa khushbu ban kar gul mein aksar utrega .!

Deewana toh deewana hai kya rasta or kya manzil
par apne mahboob ke ghar hi aisa be-ghar utrega .!

Hum jaise hain aur jahan hain achchhe achchhe kaam karen
na hum nabh tak pahunch sakenge aur na ambar utrega .!

Ghar chhote hain par logon ke dil toh mahlon jaise hain
is basti mein ek na ek din ek sikandar utrega .!

Tum sab se achchhe ho saajan aur ‘sajid’ ko pyaare ho
roop tumhara ab kaaghaz par ghazlen ban kar utrega .!!

Sajid Hashmi

तारे सारे रक़्स करेंगे चाँद ज़मीं पर उतरेगा : साजिद हाश्मी ग़ज़ल

तारे सारे रक़्स करेंगे चाँद ज़मीं पर उतरेगा
अक्स मेरे महबूब का जब भी जल के अंदर उतरेगा ।

उन नैनों में सब कुछ खोया दिल डूबा और होश गए
जिन नैनों की गहराई में एक समुंदर उतरेगा ।

शहर-ए-दिल के हर रस्ते पर दीप जलाए बैठा हूँ
उन की यादों का ये लश्कर मेरे घर पर उतरेगा ।

वो आए तो सारा आँगन सारा गुलशन महकेगा
उन का जल्वा ख़ुशबू बन कर गुल में अक्सर उतरेगा ।

दीवाना तो दीवाना है क्या रस्ता ओर क्या मंज़िल
पर अपने महबूब के घर ही ऐसा बे-घर उतरेगा ।

हम जैसे हैं ओर जहाँ हैं अच्छे अच्छे काम करें
न हम नभ तक पहुँच सकेंगे ओर न अम्बर उतरेगा ।

घर छोटे हैं पर लोगो के दिल तो महलों जैसे हैं
इस बस्ती में एक न एक दिन एक सिकंदर उतरेगा ।

तुम सब से अच्छे हो साजन और ‘साजिद’ को प्यारे हो
रूप तुम्हारा अब काग़ज़ पर ग़ज़लें बन कर उतरेगा ।।

साजिद हाश्मी

Jab Bhi Taqdeer Ka Halka Sa Ishara Hoga – Aalok Shrivastava Ghazal

0
Jab Bhi Taqdeer Ka Halka Sa Ishara Hoga – Aalok Shrivastava Ghazal
4.6 (92.5%) 8 vote[s]

Jab Bhi Taqdir Ka Halka Sa Ishaara Hoga – Aalok Shrivastava Ghazal

Jab bhi taqdeer ka halka sa ishara hoga
aasmaan par kahin mera bhi sitara hoga .!

Dushmani neend se kar ke hoon pashemani mein
kis tarah ab mere khwaabon ka guzara hoga .!

Muntazir jis ke liye hum hain kayi sadiyon se
jaane kis daur mein woh shakhs humara hoga .!

Maine palkon ko chamakte hue dekha hai abhi
aaj aankhon mein koi khwaab tumhara hoga .!

Dil parastaar nahin apna pujaari bhi nahin
devta koi bhala kaise humara hoga .!

Tez-rau apne qadam ho gaye patthar kaise
kaun hai kis ne mujhe aise pukara hoga .!!

Aalok Shrivastava

जब भी तक़दीर का हल्का सा इशारा होगा : आलोक श्रीवास्तव ग़ज़ल

जब भी तक़दीर का हल्का सा इशारा होगा
आसमाँ पर कहीं मेरा भी सितारा होगा ।

दुश्मनी नींद से कर के हूँ पशेमानी में
किस तरह अब मेरे ख़्वाबों का गुज़ारा होगा ।

मुंतज़िर जिस के लिए हम हैं कई सदियों से
जाने किस दौर में वो शख़्स हमारा होगा ।

मैं ने पलकों को चमकते हुए देखा है अभी
आज आँखों में कोई ख़्वाब तुम्हारा होगा ।

दिल परस्तार नहीं अपना पुजारी भी नहीं
देवता कोई भला कैसे हमारा होगा ।

तेज़-रौ अपने क़दम हो गए पत्थर कैसे
कौन है किस ने मुझे ऐसे पुकारा होगा ।।

आलोक श्रीवास्तव